Shivangi Singh

#अच्छा काम : राफेल संग आसमान चूमेंगी वाराणसी की शिवांगी, रचेंगी इतिहास

Updated: Oct 1,2020,02:03 AM IST Achhakaam.com

Share
Share

 

वाराणसी। जोश, जुनून और अनवरत प्रयास के बल पर कोई लक्ष्य नामुमकिन नहीं है -इसे वाराणसी के फुलवरिया गांव की शिवांगी सिंह ने साबित कर दिखाया। लीक से हटकर वायु सेना में फाइटर विमान उड़ाने का सपना पाला। फिर उसे साकार करने के लिए जी-तोड़ मेहनत की और अब एक नया इतिहास रच दिया। बनारस की गलियों से निकल कर शिवांगी दुनिया के उच्च श्रेणी के युद्धक विमानों में से एक राफेल की पहली महिला पायलट बनने जा रही हैं।

ऐसे चुनी एयरफोर्स की राह

शिवांगी के नाना कर्नल वीएन सिंह सेवानिवृत्ति के बाद नई दिल्ली में रहने लगे। वहां शिवांगी अपनी मां व भाई के साथ अक्सर जाती थीं। मां सीमा सिंह ने बताया कि हाईस्कूल की पढ़ाई के दौरान पिताजी नई दिल्ली में बच्चों को एयरफोर्स का म्युजियम दिखाने गये। वहां एयरफोर्स के विमान और वायु सैनिकों की ड्रेस देख शिवांगी रोमांचित हो गई। उसी समय नाना से बोली कि उसे भी वायु सेना में जाना है। ऐसी ही ड्रेस पहननी है और फाइटर विमान भी उड़ाना है। शिवांगी ने वहीं जीवन का लक्ष्य तय कर लिया। साल 2015 में उन्होंने वायु सेना की परीक्षा पास की। फिर डेढ़ साल के प्रशिक्षण के बाद साल 2017 में उन्हें देश की पांच महिला पायलटों में चुना गया। तीन साल बाद ही काबिलियत देखते हुए उन्हें राफेल की टीम में चुन लिया गया। शिवांगी वायु सेना का फाइटर विमान मिग-21 बाइसन उड़ाती हैं। अब वह राफेल के लिए अंबाला में तकनीकी प्रशिक्षण ले रहीं। फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी 'कन्वर्जन ट्रेनिंग' पूरा करने के बाद वायुसेना के अंबाला बेस पर 17 'गॉल्डन एरोज स्क्वैड्रन' में औपचारिक एंट्री लेंगी.

नटखट बिटिया चिड़ियों की तरह उड़ना चाहती थी

फुलवरिया रेलवे क्रासिंग के निकट तीन दशक पुराने मकान में मां सीमा सिंह, पिता कुमारेश्वर सिंह,  भाई मयंक सिंह,  शुभांशु समेत शिवांगी का पूरा परिवार रहता है। शिवांगी की मां सीमा सिंह बताती हैं कि फाइटर विमान राफेल स्क्वाड्रन गोल्डन ऐरो के विशेषज्ञ पायलट के प्रशिक्षण के लिए जब वायुसेना ने शिवांगी का चयन किया, तभी लग गया था कि बेटी यहां भी खुद को साबित करेगी। बेटी की बड़ी सफलता बयां करते-करते मां की आंखों में खुशी के आंसू छलक आए। फिर कुछ संभल कर बोलीं- बचपन से ही नटखट बिटिया चिड़ियों की तरह आसमान में उड़ना चाहती थी।

खेलों में भी मनवाया लोहा

शिवांगी खेलों में भी आगे रहती थॆ। स्कूल के लिए उसने नेशनल स्तर तक की प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। उसका ड्रिल लड़कों से भी बेहतर था। इसलिए हर बार टीम में चुनी जाती। उसकी बदौलत टीम जीतती भी थी। जैवलिन थ्रो में भी उसने राष्ट्रीय प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता।

Other News

अच्छा काम : आईआईटी के पूर्व छात्र सरकारी स्कूल के बच्चों को लोगों की मदद से देंगे स्मार्टफोन

नई दिल्ली | कोरोना काल में सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे कम आय वर्ग वाले परिवारों के बच्चों के सामने अपनी पढ़ाई जारी रखना चुनौती बन गया है। साधन संपन्न परिवारों  के  बच्चों के लिए तो फिर भी...

Update Tuesday, Sep 29,2020,08:34 PM IST

डॉक्टर ऑफ मोटिवेशन नरेंद्र सिंह का सपना, सातों महाद्वीप की चोटियां फतह करना

नई दिल्ली। हौसले बुलंद हों तो मंजिल मिल ही जाती है। मिलेनियम सिटी से 65 किलोमीटर दूर रेवाड़ी के डॉ. नरेंद्र सिंह ने अपने जुनून व परिश्रम से यह सिद्ध कर दिखाया है। 12 साल के संघर्ष में पर्वतारोही डॉ....

Update Tuesday, Sep 29,2020,03:25 PM IST

इस सोशल साइट पर पहचान बदलकर नहीं कर सकेंगे चैटिंग, साइन-अप के लिए मोबाइल नंबर जरूरी

सैन फ्रांसिस्को : सोशल मीडिया स्वतंत्र  अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम बनकर उभरा है। फेसबुक हो या ट्विटर जैसी तमाम साइट, सभी पर यूजर अपने अनुभव और विचार साझा करते हैं। लेकिन, इन पर फेक न्यूज की भी...

Update Sunday, Sep 27,2020,01:28 AM IST

क्राउडफंडिंग से लंदन में दिल्ली के ई-रिक्शा चालक के बेटे का सपना हो रहा साकार

नई दिल्ली :  सपनों में जान हो तो मंजिल मिल ही जाती है। जरूरत बस एक ठोस कदम बढ़ाने की होती है। ऐसा ही कुछ हुआ है दिल्ली में विकासपुरी के रहने वाले ई-रिक्शा चालक के बेटे 20 वर्षीय कमल सिंह के साथ...

Update Saturday, Sep 19,2020,07:30 PM IST

#Achhakaam : 19 सितंबर को दुनिया में महिलाओं को पहली बार वोट करने का अधिकार मिला

  नई दिल्ली।  लगभग पूरी दुनिया की राजनीति में महिलाओं हिस्सेदारी तेजी से बढ़ रही है, जो एक अच्छी बात है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि महिलाओं को सबसे पहले वोट देने का अधिकार 127 साल पहले...

Update Saturday, Sep 19,2020,12:21 AM IST